HOW TO DESTROY ENEMY WITH BLACK MAGIC

now browsing by tag

 
 

Wazifa For Destroying Enemy In Urdu

Wazifa For Destroying Enemy In Urdu

Wazifa For Destroying Enemy In Urdu

c Let seven suyahs be worn in such a way that the shagaf should stop, but on every needle fall seven pounds Burial in Old Grave Insha Allah All enemies will get sick in three days.

Hifazat Ke Liye Wazifa

Dada Haidari is a Saif hahah Rabbani and many enemies are insulted and enemies are Islam. In this way the total number of deaths will be 169. It is 13 days of every day, there is no need or need of compassion, and it is the supplication.

Powerful Wazifa for Enemy

इस नक्श को साअत मिर्रीख में मंगल या हफ्ते के रोज जवाल कमर में लिखे और पुरानी कब्र में डालो ,फलां बिन फलां की जगह इन दोनों के नाम लिख जिनके दर्मियान अदावत डालनी है फ़ौरन असर होगा .

नक्श आयत का लिखे

बकरी या बकरे का दिल लाये और ये नक्श एक कागज पर लिखकर नक्श के नीचे नाम दुश्मन और उसके वालिद का लिखकर दिल का चीरक्र इसमें रखकर सात सुइया इस तरह गाड़ दे की वह शगाफ़ बन्द हो जाये लेकिन हर सुई पर सात मर्तबा पड़कर चुभो दे और पुरानी कब्र में दफन क्र दे इंशा अल्लाह तआला तीन रोज में दुश्मन बीमार हो जायेगा.

Dushman Se Hifazat Ke Liye Wazifa

दुआए हैदरी एक सैफ कहर रब्बानी है बहुक्मे खुदा दुश्मन मगलूब होते है. और दुश्मनाने इस्लाम हलक होते है,तरकीब ये है की अगर हिला किये अदाएं इस्लाम और फतह व नुसरत लश्क इस्लाम के लिए दुआ पड़नी चाहिए. तो जमाअत कसीर मस्जिद में या किसी पाकीजा मकान में पढे जिस तरह खत्म ख्वाजगनका तरीका है. और जमाअत में पढने के लिए फि कस तादाद २१ बार है और हर शख्स एक जलसा में २१ बार पढे चाहिए. मजमूई तादाद हजारों लाखों क्यों न हो जाये कोई बात नही है.

Wazifa For Destroying Enemy In Urdu

Wazifa For Destroying Enemy In Urdu

अगर हर आदमी २१ मर्तबा पढ़ क्र हॉलाकि दुश्मनाने दीनके लिए दुआ करे. जब एक आदमी मगलुबि दुश्मन के लिए पढे तो तरकीब शपे की १६९ मर्तबा रोजाना पढे. इस तरकीब सपे की दुश्मन का नाम जमीन पर लिखे लकड़ी की नोक से और खारदार दरख्त जैसे बबूल यानि कीकर या बेरी की शेख हाथ में ले. और १३ मर्तबा पढे और नाम पर मारे. इस तरह १३ मर्तबा करे कुल तादाद १६९ होगा .१३ मर्तबा पडो और मारो इसी तरह १३ मर्तबाकरो हुक्मे खुदा दुश्मन इजहार आजजी करेगा. ये अम्ल सैफ कातेअ है तो फिर जमीन पर मत लिखो तसव्वुर से दुश्मन का ख्याल करते हुए जमीन पर मारो ये १३ रोज का है कोई परहेज महीना या दीन की जरूरत व शर्तनही है दुआए ये है.